Top 3 पार्ट ऑफ वर्डप्रैस

Top 3 पार्ट ऑफ वर्डप्रैस

अगर आप ब्लॉगिंग के क्षेत्र में है तो आप ने वर्डप्रैस के बारे में जाना होगा । वर्डप्रैस बहुत ही पावरफुल कंटेन्ट मैनेजमेंट सिस्टम है जिसकी मदद से आप बहुत ही आसानी से अपनी मनचाही वेबसाइट , ऑनलाइन स्टोर , कमर्सियल वेबसाइट , जॉब वेबसाइट , शैक्षणिक वेबसाइट…आप जैसी चाहे वैसी वेबसाइट बना सकते है । वर्डप्रैस की सबसे बड़ी खासियत यह है कि बहुत ही पावरफुल होने के बावजूद वह कॉम्प्लिकेटेड बिल्कुल नहीं । बहुत ही सरलता से आप उसे सिख सकते है । वो भी एक तरह से फ्री में क्योंकि ऑनलाइन वर्डप्रैस सीखने के लिये बहुत से फ्री सोर्स उपलब्ध है । आप चाहे तो वीडियो से सिख सकते है या पढ़कर ! बस आपको उसे सीखने की इच्छा होनी चाहिए ।


अब बात करते है वर्डप्रैस की तो आप को अगर उसके बारे में जानना है तो आपको सबसे पहले एक बात जाननी होगी कि वर्डप्रैस आपको फ्रीडम देता है लेकिन उसके लिए उसे आप को उसे समझना होगा । उसे समझने के लिए एक उदाहरण को समझते है । जैसे हमारा शरीर दिखता तो एक है लेकिन उसे चलाने वाली प्रणालियां बहुत सारी है। जैसे सांस लेने का अलग सिस्टम होता है , खाना पचाने का अलग सिस्टम होता , खून को चलाने वाल अलग सिस्टम अलग होता है , दिमाग का अलग तो धमनियो का अलग और कोष का अलग सिस्टम अलग होता है । वैसे ही वर्डप्रैस को हम समझते है कि वह एक सिस्टम है लेकिन उस सिस्टम को चलाने के लिये भी अलग अलग सिस्टम होते है जिसे हम वर्डप्रैस के पार्ट्स कह सकते है । आज हम वर्डप्रैस के उसी पार्ट्स को समझने का प्रयास करेंगे ।

Top 3 parts of WordPress
Top 3 parts of WordPress

Top 3 पार्ट ऑफ वर्डप्रैस

01 डेशबोर्ड

जब आप वर्डप्रैस सीखने की शरूआत होती है तो आपके सामने सबसे पहले आता है उसका डेशबोर्ड ! जिस तरह से कम्प्यूटर पर अलग अलग बार , आइकॉन और प्रोग्राम होते है उसी तरह से आपकी पूरी साइट जहां से कंट्रोल , कस्टमाइज , एडिट और पब्लिश होती है उस मूलभूत डिस्प्ले फंक्शन को आप डेशबोर्ड कह सकते है।


वर्डप्रैस का डेशबोर्ड आपकी साइट का कंप्लीट कंट्रोल पैनल है ऐसा ही समजिये । अगर आप वर्डप्रैस के डेशबोर्ड को देखे तो कुछ इस तरह से वह दिखता है । हा समय समय वर्डप्रैस को और बहेतरीन बनाने के लिए उसके अपडेट किया जाता है तो कुछ हद तक इस डेशबोर्ड में बदलाव हो सकता है लेकिन जो बेजीक मेनू या यू कहे कि सिस्टम एक ही रहता हैं । चलिये बारी बारी से हर एक को जानते हैं ।
◆ Dashboard : अब ये डेशबोर्ड आपके डेशबोर्ड का ‘ देशबोर्ड ‘ हैं । मतलब आपके डैशबोर्ड पर कौन कौन से सिस्टम चल रहे है ? क्या नोटिफिकेशन है , सिस्टम में कोई अपडेट है ? वैगरह के बारे में एक ही क्लिक में आप जान सकते है । इसमें सिर्फ़ दो ऑप्शन होते है । Home और Dashboard । जिसमे आप अपने डेशबोर्ड का ‘ डेशबोर्ड देख सकते है । और डिस्प्ले होने वाले ऑप्शन को आप कस्टमाइज व उस पर एक्शन ले सकते हैं ।


◆ Post :ब्लॉगिंग में कंटेंट क्रिएशन बेजीक स्किल है जो बहुत ही पावरफुल होनी चाहिए । अब आपको लिखना है तो वर्डप्रैस के पास उसके लिए ऑप्शन है Post का ! इसी में आपको All post , New post , Categories , Tag के ऑप्शन मिल जाते हैं । हर एक पार्ट बहुत ही जरूरी है। क्योंकि यही पर आप लिखते है । यहां पर सब पोस्ट देख सकते है , नई पोस्ट लिख सकते है , किस विषय पर लिखना चाहते है उन सब को केटेगरी के मुताबिक सॉर्ट कर सकते है , टैग दे सकते है सब कुछ इसी ऑप्शन में मिल जाता है । All post में आप पोस्ट का स्टेटस , एडिट , क्विक एडिट , अपडेट और उस पोस्ट को पब्लिश या ड्राफ्ट में सेव कर सकते है । सबसे बढ़िया बात ये है कि आपको View Option भी मिल जाता है। जिसमे आप पोस्ट की लिंक , डेट , ऑथर , केटेगरी , आउटगोइंग लिंक , एससीओ स्कोर , व्यू काउंट और भी बहुत कुछ इनेबल या डिसेबल कर सकते है । उसी के मुताबिक आपको पोस्ट का पूरा डेशबोर्ड दिखेगा ।


Media ◆ अब आप पोस्ट लिखते है तो उसे और ज्यादा असरकारक बनाने के लिए चित्र व वीडियो का प्रयोग भी कर सकते हैं । जिससे आप का पोस्ट अच्छा दिखता है। लोगो को पसंद आता है और आप की वेबसाइट लोगो मे लोकप्रिय बनती है । इस ऑप्शन में आप मीडिया लायब्रेरी और उसमे इमेज , वीडियो और किसी भी प्रकार की फाइल अपलोड कर सकते है । फोटोज को आप एडिट भी कर सकते है । अपलोड और डिलीट का ऑप्शन भी मिल जाता है ।
Pages ◆ इस ऑप्शन में आप पेज बना सकते है । पेज को एडिट , डिलीट और दूसरी बेजीक व एडवांस एडिटिंग ऑप्शन मिल जाते है ।


Comments ◆ कमेंट वह सेक्शन है जिसमें आप आपके पोस्ट पर अगर कोई कमेंट करता है , प्रश्न पूछता है या कोई दूसरी जानकारी पाना चाहता है वह कमेंट करता है । आप यहां पर इसे एप्रूव , डिलीट या उसका जवाब दे सकते है । कौन सी कमेंट दिखेगी या नही इसका कस्टमाइजेशन आप कर सकते है ।


Appearances ◆ अपीरियंस में आप आपकी Theme , custmize , menu , edit CSS और Theme editor जैसे ऑप्शन मिल जाते है । जो मुख्य रूप से थीम से रिलेटेड है । जिस पर हम अलग से चर्चा करेंगे ।


Plugins ◆ प्लगिन्स वह सिस्टम है जो वर्डप्रैस को जैसे आप चाहे उसे कस्टमाइज कर सकते है । इस ऑप्शन में आज प्लगिन्स अपलोड , एडिट , डिलीट , एक्टिव या डिएक्टिवेट कर सकते है ।


Users ◆ इस सेक्शन में आप यूजर्स के बारे में जान पाएंगे । जिसमे administrator , subscriber या editor जैसे यूजर्स को आप देख सकते है । उनमे से आप मनचाहे का रोल बदल सकते है , रिमूव कर सकते है या एड भी कर सकते हैं ।


Tools ◆ अब इस फंक्शन की बात करे तो उसमें सबसे खास है import और export ! आप अपनी पूरी वेबसाइट को एक्सपोर्ट कर सकते है साथ ही उसकी बैकअप कॉपी भी ले सकते है । साथ ही आप available tools के बारे में जान सकते हैं । साथ साथ आपकी वेबसाइट की ‘ health ‘ के बारे में भी जान सकते हैं । export personal data , erase personal data के ऑप्शन भी आपको मिल जाते है ।


Setting : पूरे डैशबोर्ड का यह फंक्शन मुख्य पार्ट है । पूरी साइट की सेटिंग यही से की जाती है । जिसमे General , Writing , Reading , Media , Permalink , Discussion और Privacy जैसी सेटिंग आप कर सकते है । जिसमें

General सेटिंग में आप साइट का नाम , टैगलाइन , एडमिन यूआरएल , साइट का यूआरएल , एडमिन ईमेल एड्रेस , मेम्बरशिप , यूजर्स रोल , दिनांक का सेटिंग , लोकेशन , हफ्ते की शरूआत , टाइम ज़ोन की सेटिंग कर सकते है ।

Writing में आप डिफॉल्ट केटेगरी , डिफॉल्ट पोस्ट फॉर्मेट , ईमेल का सेटिंग , सर्विस का अपडेशन , कस्टम कंटेंट के प्रकार को आप सेट कर सकते हो ।
Reading में आप पेज पर होने वाले पोस्ट की संख्या , होमपेज का सेटिंग , पोस्ट की साइज़ , समरी , सर्च इंजिन विज्युब्लिटी , रिलेटेड पोस्ट , फ़ॉलोअर्स को सेंड होने वाले मेसेज की सेटिंग आप सकते है ।
Media में आप पोस्ट में डिस्प्ले होने वाली इमेजिस कि साइज़ , डिफॉल्ट साइज़ , क्रॉप साइज़ , मैक्सिमम साइज़ जैसी सेटिंग आप कर सकते हैं ।
Discussion में आप पोस्ट की डिफॉल्ट सेटिंग , कमेंट की पूरी तरह से सेटिंग , कमेंट अप्रिवल की सेटिंग , ईमेल और कमेंट मोडरेट से जुड़ी सेटिंग आप कर सकते हैं ।
Permalink में आप अपने पोस्ट की लिंक की सेटिंग कर सकते है । आप उसे कस्टम , डिफॉल्ट , नाम , दिनांक से या फिर रेंडमली सेटिंग आप कर सकते है । वैसे सब पोस्ट के नाम को सेट किया जाता है ।
Privacy में आप अपनी साइट का प्राइवसी पेज की सेटिंग कर सकते है । अब वर्डप्रैस खुद आपको प्राइवसी पेज प्रोवाइड करता है । उसमें आप एडिटिंग भी कर सकते है । आप इसे से अलग अपना कस्टम प्राइवसी पेज भी बना कर उसे भी एड कर सकते है ।

02 थीम्स

Theme आपकी वेबसाइट का लेआउट है जो विज़िटर को दिखता है । आप जैसी थीम को यूज करोगे आप की साइट वैसी दिखाई देगी । आज तो कई तरह की थीम मिल जाती है । जैसे ब्लॉग , ई कॉमर्स , एडज्युकेशन , यूनिवर्सिटी , ई स्टोर , लायब्रेरी , लेब , मेडिसिन , डिजिटल एजंसी , कंपनी , वू कॉमर्स , मल्टी वेंडर , मेगेज़ीन्स , शॉप और दूसरी कई तरह की थीम आती है । वैसे थीम खुद भी एक प्रोग्राम ही है जो आपको कंटेंट को डिस्प्ले करने में मदद करता है । साथ ही आपकी साइट को रेंक कराने में भी मदद करती है । आज कल थीम दो तरह की होती हैं : 1. फ्री थीम्स 2. प्रीमियम थीम्स या paid थीम्स !
इसके अलावा भी नल्ड या जीपीएल थीम्स भी आती है जो एक अलग चीज है ।
फ्री थीम्स वर्डप्रैस की डिक्शनरी में उपलब्ध है । ज्यादातर नए ब्लॉगर उसका ही इस्तेमाल करते है । जो अच्छी बात है । क्योंकि एस्ट्रा जैसी थीम्स तो फ़्री होने के बावजूद बहुत ही एडवांस थीम होती है । साथ ही प्रीमियम थीम्स आपकी साइट को प्रिमियम लुक देती है । फ़ास्ट लोड होती , सिक्योर , रिलायबल और आपकी साईट के लिए परफेक्ट होती है ।
आज तो कई डेवलपर कस्टम थीम्स भी प्रोवाइड कराते है। जिससे आप अपनी मनपसंद थीम बनवा सकते है । थीम के साथ उसका कस्टमाइजेशन भी उतना ही जरूरी है । उसके हेडर में लोगो , मेनू , एड्स , सोसियल लिंक , साइडबार , फुटर , पोस्ट का लेआउट , शेरिंग ऑप्शन , पोस्ट की कस्टमाइजेशन वैगेरह करना भी उतना ही आवश्यक है । जो आपको डेशबोर्ड में से करना होता है ।
क्योंकि अच्छी थीम लेकर उसे आप कस्टमाइजेशन नही करते है तो उसका कोई मतलब नही रह जाता। इसलिए आपको थीम कोई भी हो फ्री या प्रिमियम उसे कस्टमाइज तो करनी ही पड़ती है ।

03 Plugins

प्लगिन्स एक तरह से वर्डप्रैस की जान है क्योंकि यही वह जादू की छड़ी है जिसकी मदद से आप अपनी वेबसाइट पर जो चाहे एड कर सकते है । लगभग जो चाहो वो एड कर सकते है । आज कुछ बेजीक प्लगिन्स होते है जो आपको इंस्टॉल्ड करने ही पड़ते है । इसके अलावा सिक्योरिटी , एससीओ , कैचिंग , स्पीड , इमेज ऑप्टिमाइजेशन , कस्टम फॉन्ट , कस्टम फॉर्म्स , वू कॉमर्स , गीत , वीडियो , फ़ाइल शेरिंग , ईमेल मार्केटिंग , सोसियल मीडिया इंट्रीग्रेटेड , फंक्शनालिटी , पोस्ट लेआउट और बहुत तरह के प्लगिन्स मिलते है । ज्यादातर फ्री होते है , लेकिन आप उसके एडऑन या प्रिमियम वर्जन भी ले सकते है ।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap
%d bloggers like this: