ब्लॉग कैसे बनाएं ?


ब्लॉग कैसे बनाएं ?

बहुत से लोग यूट्यूब पर ब्लॉगर्स के वीडियो देखकर या ऑनलाइन ब्लॉग से पैसे कमाए जा सकते हैं ये जानकर ब्लॉग बनाने के बारे मे सोचने लगते हैं ! क्या आप भी ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो आप सही जगह पर लेंड हुए हैं । क्योंकि आप को एक ब्लॉग बनाने के लिए जो कच्चा मालसामान कहा से लेना हैं , कौन सा वाला फ्री है , कौन सा वाला पेड है , कौन सा फालतू का है और कौन सा प्रीमियम हैं उन सब की कहानी बोले तो इन्फॉर्मेशन यहां इस साइट पर ढेर सारी दी जाने वाली हैं तो भिड़ू बस पढ़ते जा और समझ ले कि ब्लॉग बनाना भी है या नहीं ? अगर बनाना है तो कैसे ?

इस लेख में, हम शरू से लेकर आखरी छोर तक ब्लॉग का सब कुछ बताने वाले हैं । तो जरा ‘ धीरज ‘ भाई को बाजू में बिठाकर जरा ध्यान से पढियेगा !

★ सबसे पहले बात नाम से शरू करते है कज आख़िर ये  ब्लॉगिंग क्या है? ये किस चिड़िया का नाम हैं भैया जिसने आजकल ऑनलाइन हल्ला मचा के रखा हैं ? कहा होती हैं ये और कहा बैठती या उड़ती हैं….हैय !

ब्लॉगिंग क्या है ?

   तो भाई ये जो ब्लॉगर्स होते हैं जो ब्लॉगिंग ब्लॉगिंग चिल्लाते रहते हैं उनके लिए ब्लॉगिंग एक सामान्य बात हैं लेकिन बिगिनर्स के लिये ये जादू का पिटारा हैं । वैसे ब्लॉग में एके दूसरों के साथ ज्ञान साझा किया जाता हैं । जो आप जानते हैं उसे दुसरो के साथ शेर करना ब्लॉगिंग हैं । सिम्पल ! अब इतनी इंग्लिश तो आनी ही चाहिए हा !!! अब सीधी बात भी समझ ले कि ब्लॉगिंग केवल ज्ञान व इन्फॉर्मेशन शेर करने के लिए तो बनाया नहीं जाता , वैसे भी इंसान फ़्री में तो चलता भी नहीं तो ये ब्लॉग बनाना , उसको चलाने के लिए खर्चा करना ये सब फ़्री में तो करेगा ही नहीं ना ! हा , ब्लॉगिंग से आप अच्छा ख़ासा रुपया भी कमा सकते है ! वह भी सीधे आपके बैंक एकाउंट मे आएंगे ! अगर महेनत की होगी तो वरना टाएम पास करना तो हमें आता ही हैं ! बस आपको चाहिए एक लेपटॉप और इंटरनेट कनेक्शन ! बाजूवाले का भी चलेगा !

अब ये जानते है आपको एक ब्लॉग क्यों शुरू करना चाहिए ? क्यों ये सब सियाप्पा करना ! अब ये सुंदर लड़की तो हैं जिस पर हम लाइन मारते चले और चलते बने ! ही , ही , ही !!!

अब जरा सीरियस हो जाया करो , लड़की आई तो ये मत समझना मुद्दे की बात होगी ही नही !  क्या आप जानते हैं कि ब्लॉगिंग आपके जीवन को बदल सकती है? हाँ! कई  ब्लॉगर तो ऐसे हैं जो ब्लॉगिंग से लाखों कमाते हैं। वो भी हर महीने !

क्या !!! अरे धीमे बोलो ! वरना कोई आपको पागल समझेगा ! इस तरह फोन में ऐसा पढ़कर चिल्लाना पागल पन समजा जाता है भाई ! तो जरा , हल्के हा !

अब दूसरे मुद्दे की बात दूसरे तो लाखों कमा रहे हैं क्याआप भी कर सकते हैं ???

जवाब सीधा हैं : बेशक उल्लू के पठ्ठे !

   हा , बिल्कुल आप भी कर सकते हैं । अगर आपको किसी चीज का शौक है तो आप ब्लॉगिंग करके पैसे कमा सकते हैं। चलिए आपको मेरी ये बात झूठी ना लगे इस लिये कुछ बड़े बड़े ब्लॉगर्स के बारे में बताता हु जो बड़े वाले पैसा कमाते है ;

जैसे कि

नील पटेल

कब ये बंदा गुजरात का पटेल हैं तो गोरा कैसे हैं इस सोच में पड़े बिना उसके बारे में बात करते हैं । क्योंकि किसी भी एंगल से सरनेम के अलावा ये भारतीय या गुजराती नहीं लगता , हा , शक्ल थोड़ी हैं लेकिन जाने दीजिए शकल पे मत जाओ , काम देखो !तो ये भारतीय सरनेम वाला गोरा बंदा नील पटेल ने  neilpatel dot com नाम की वेबसाइट बनाई है जिससे ये भैया हर महीने ( जरा फिर से पढ़ना !!! ) 7 मिलियन से अधिक लोगों को अपनी वेबसाइट पर ले आते हैं और उनकी मदद से वह अच्छी खासी रकम कमा लेते है।

हर्ष अग्रवाल

अब ये इंटेलिजेंट बंदा हमारे भारत का हैं । नाम है हर्ष अग्रवाल जो भारत के एक पेशेवर ब्लॉगर हैं। वह www dot shoutmeloud dot com और कुछ दूसरे ब्लॉग के मालिक हैं। हर्ष अपने ब्लॉग से बहुत पैसा कमाते हैं और अपने ब्लॉग में हर महीने अपनी कमाई की रिपोर्ट साझा करते हैं। जरा एकबार जाकर देख लेना ! कम से कम आंकड़ा 25000 $ हैं । अब जरा इसे रुपये में कन्वर्ट करना ! हा , जरा अपने दिल को संभाल कर रखना !

अनिल अग्रवाल

  ये भी एक बड़े खिलाड़ी हैं ऑनलाइन कमाई में ! ब्लॉगर पैसेन नाम की वेबसाइट से ये भी हजारों डॉलर हर महीने छापते हैं ।

ये तो सिर्फ गिने चुने नाम हैं बाकी बड़ी बड़ी कंपनियां और बिजनेस वाले की कमाइ का आप सोच सके उससे कई गुना ज़्यादा होती है । लेकिन सीधी बात हैं कि महेनत भी उतनी ही लगती हैं ।

अब बात करते हैं इस मुख्य कारण के अलावा ब्लॉगिंग के कुछ और कारण हैं। जिनमे शामिल हैं :

  • पैसा बनाना
  • लोकप्रिय होने के लिए
  • अपने ज्ञान को साझा करना
  • सामाजिक प्रभाव
  • अपने विचार व्यक्त करना
  • समीक्षा इकाइयों को प्राप्त करने के लिए …आदि

    इसके अलावा भी ब्लॉग शुरू करने के पीछे कई कारण होते  हैं। हम इस  लेख में, हम आपको बताएंगे कि आप अपने लिए किस तरह एक ब्लॉग बना सकते हैं।

तो चलिए ,….!

ब्लॉग शुरू करने के लिए 7 स्टेप्स

ब्लॉग शुरू करने के लिए आपको बस 7 स्टेप्स का पालन करना हैं । बस इसे समझो , बनाओ और फिर क्या ! हो गया आपका ब्लॉग ! 

1. विषय का चयन

अब ये कोई कोई भारी भरखम शब्द आपको सिर पटक ने के लिए नही लिखा ! ब्लॉग शुरू करने से पहले आपको सबसे पहले विषय का चयन करना होगा। विषय का मतलब ब्लॉग का टॉपिक। दूसरे शब्दों में कहे तो किस के बारे में आप अपने ब्लॉग पर खिचड़ी पकाने वाले हैं ।  उस विषय को पसंद कर जिसमें आप सब को चुप कराके बैठा सकते हो !

2.  ब्लॉग के लिए सही डोमेन चुनें

डोमेन मतलब आपके ब्लॉग का नाम ! जैसे घर के आगे नेम प्लेट होता है वैसे ही आप के ब्लॉग का नाम ! बड़े हाल ही में खुलासा हुआ है कि आप मन चाहा नाम रख सकते हैं । आपके ब्लॉग से जुड़ा ही हो ये जरूरी नहीं !

3. अपना ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म चुनें

अब ब्लॉगिंग करना है तो ये भी जाना ले कि कहा करना हैं । मतलब कौन से प्लेटफार्म ! अब ये पिक्चर तो है नही की एक्शन कहा और चालू कर दे ! आपको सबसे अच्छा ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म चुनना होगा ! ये सबसे महत्वपूर्ण निर्णय है तो जरा लंबे समय का सोचकर चुने ! वरना जो होगा तुम्हारा उखड़ेगा , हमारा तो कुछ जाएगा नही !

  तो ये पलटफॉर्म फ्री और पेड दोनों तरह के उपलब्ध होते हैं। आप नए हो तो हम बताएंगे कि आपके ब्लॉग के लिए कौन सा प्लेटफॉर्म चुनना है।

4. अपना ब्लॉग सेटअप करें

अपने ब्लॉग के लिए ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म चुनने के बाद अपने ब्लॉग को सेट और कस्टमाइज़ करना उतना ही जरूरी जितना आटा बनाने के बाद रोटी को पकाना ! आपकी कस्टमाइजेशन और ब्लॉग का सेटअप आके ब्लॉग की रैंकिंग व बहुत सारी टेक्निकल खूबियों को सांझा करने का तरीका हैं । ट्रैफिक आने पर विज़िटर को बहेतरीन अनुभव कराने के लिये ब्लॉग का सेटअप बहुत जरूरी हैं । तो इसे बहुत समझकर करें । मुख्य टॉपिक हम ही आपको बता देते हैं ;

( १) ब्लॉग की डिजाइन
( २ ) मेनू को बनाना
( ३ ) अपने ब्लॉग की थीम  ( यानी कि लेआउट ) को कस्टमाइज  करना
( ४ ) प्लगइन्स इंस्टॉल करना व उसे सेटअप करना और
( ५ ) URL यानी कि आम भाषा मे कहे तो आपके वेबसाइट की लिंक की  संरचना बदलना और आप के मन मुताबिक का कस्टमाइजेशन !

5.  ब्लॉग पर पोस्ट प्रकाशित करना

  अब थाली में सब्जी आये लेकिन रोटी ही ना आये तो क्या करें ! उसी तरह ब्लॉग बिना किसी पोस्ट के कुछ भी नहीं है। इसलिए अपने ब्लॉग को डिज़ाइन करने और सेट अप करने के बाद, आपको अपने ब्लॉग पर  पोस्ट प्रकाशित करनी होगी । अब ये ब्लॉग पोस्ट लिखना कोई जलेबी खाने जितना आसान काम तो है नहीं कि बस यूं लिखा और फटाक से हो गया !  अपने विषय के रिलेटेड पोस्ट लिखें !!! कैसे ? अरे ! हम हैय ना , चिंता नको करो !

उसके लिए, आपको “एक ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें” अनुभाग को पढ़ना होगा।

6. ब्लॉग का प्रचार करें ( बोले तो रापचीक पब्लिसिटी ! )

   ब्लॉग बनाने से पैसे नहीं कमा सकते अगर आपको पैसा कमाना है तो आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक यानी कि विजिटर्स आने चाहिए ! उसके लिए आपको आपके ब्लॉग का प्रचार करना पड़ेगा ! इसके लिए आपको कुछ चीजें सीखनी होगी । मतलब उन से पाला पड़ेगा ! तो चलिये सिखाते है कि इन सब से पंगा कैसे लिया जाता है और किस तरह से सब को चित्त किया जाता हैं !

यह विलन है SEO, Paid Advertising, Social Share, Email Marketing और दूसरे कुछ आचर , कुचर ! आप इनकी मदद से ट्रैफिक ला सकते हैं । इसलिए आपको पैसे कमाने के लिए अपने ब्लॉग को सभी उपलब्ध साधन व तरीकों से उसका प्रचार करना होगा ! वह भी जोरशोर से ! उसके भी पुर्जे हम खोल के रख देंगे …लेकिन आगे ….!

7. ब्लॉग से पैसे कैसे कमाएँ

  अगर आप आगे कहि बातें अमल में ला चुके हैं । अब टाएम है पैसे कमाने का ! बोलो तो हरि पत्ती आने का टाइम हो गया हैं भिड़ू ! क्योंकि आखिर में …यही मंजिल थी । ब्लॉग से कमाने के कई सारे तरीक़े हैं …जिनमें
मुद्रीकरण विधि के कुछ:


( १) गूगल ऐडसेंस  ( सब का फेवरेट …हमारा भी ! )
( २ ) एफिलिएट मार्केटिंग
( ३ ) अपने खुद के उत्पाद का प्रचार व बिकती
( ४ ) CPA मार्केटिंग आदि

   इन की मदद से आप अपने ब्लॉग से पैसा कमा सकते हैं ।  कैसे ….तो पढ़ते रहिये !!!

अब समय आ गया है  ब्लॉग शुरू करने के बारे में जरा खुल के बात करना का !

तो बिल्कुल बॉटम ध लाइन से स्क्रैच से ब्लॉग कैसे शुरू करें?

   जैसा कि हमने बताया की आपको  Blogging Niche को चुनन होता है लेकिन उसका चयन करते समय कुछ नियमों का पालन करने की आवश्यकता है। विषय या निश चुन लेने के बाद समय आता है ब्लॉग का टेक्निकल हिस्सा ! जो आम तौर पर हम भारतीय लोगों को बहुत कम पल्ले पड़ता हैं ! लेकिन चिंता न करें , हम आपको सब सरल तरीके से बताएंगे । अब आपको बनाना है ब्लॉग तो आप को इस ब्लॉग की पूरी कुंडली समज लेनी चाहिये ! आख़िर ये ब्लॉग होता क्या है , की सत्रह बनता हैं , कौन से इसके पार्ट्स है , कौन से फलाना ढिमका सब के बारे में आपको जानना होगा । 

तो चलिए बताते है ! सबसे पहले तो ये जान ले कि ये ब्लॉग के प्रकार कितने होते  हैं? अब जैसे लडकिया भी टेम्पो और स्लिम होती है वैसे ही ब्लॉग भी कई तरह के होते हैं ।  ब्लॉग कई प्रकार के होते हैं। लेकिन आपको तो जो बनाना है उसी के बारे में जानना है!

ब्लॉग के प्रकार:

( १ ) स्टेटिक वेबसाइट
( २ )  मल्टी-आला ब्लॉग
( ३ ) एकल-आला ब्लॉग
( ४ ) माइक्रो-आला ब्लॉग

ये चटर पटर  कुछ प्रकार के ब्लॉग हैं जिन्हें आप बना सकते हैं। अन्य प्रकार के ब्लॉग भी हैं लेकिन ये सब कॉमन व बहुतायत बनाये जाते  हैं। आपको इनमें से एक को चुनना होगा ।

स्टेटिक वेबसाइट:

  अब ये जो ब्लॉग होता है बेजीकल आप उसे वेबसाइट भी कह सकते हो वह एक ही पेज वाली वेबसाइट होती है जो मुख्य रूप से एक विशेष सेवा या विषय पर बनाई जाती है। इसे बनाना सबसे आसान वेबसाइट है लेकिन इसे बनाने के लिए आपको कुछ कोडिंग ज्ञान की आवश्यकता होती है। इस प्रकार की साइट बनाने में आपकी सहायता के लिए कई सॉफ्टवेयर भी उपलब्ध होते हैं।

मल्टी पर्पस ब्लॉग

   एक मल्टी पर्पस ब्लॉग सभी प्रकार के विषयों को कवर कर लेता  है । जिसमें आप एक से अधिक विषय पर लिख सकते हो । जैसे कि  हमारी अपनी साइट bloggingorigins.com ! इसमें ब्लॉगिंग, डिजिटल मार्केटिंग, टूल्स, ट्यूटोरियल , एससीओ , होस्टिंग डील्स  जैसे कई विषय शामिल हैं।

क विषय पर बने ब्लॉग

ये उस तरह की वेबसाइटें हैं जो एक ही विषय से रिलेटेड होती है । जैसे कि education(dot ) com इस वेबसाइट पर, हम केवल शिक्षा से जुड़ी माहिती ही मिलेगी । इस तरह की साइट बहुत लोकप्रिय होती हैं ।

माइक्रो आला ब्लॉग

  यह वेबसाइट विषय का भी भाग करके उस पर फोकस करके बनाया जाता हैं । जैसे कि स्मार्टफोन विषय हैं तो उसके प्रोसेसर पर आप ब्लॉग बनाओगे तो ये आपका माइक्रो ब्लॉग कहा जायेगा !
 
तो इनमें से आप ब्लॉग बना सकते हैं।  अब बारी हैं विषय के चयन की ! तो

क्या करे एक विषय का चुनन करने के लिए?

   अब ब्लॉगिंग उस विषय को लिखने के बारे में है जिसमें आपकी रुचि या इंटरेस्ट है। यह एक छोटी अवधि की प्रक्रिया नहीं है , ये लंबी चलने वाली बात हैं।   आपको वर्षों तक ब्लॉग लिखना है , और पैसे भी कमाने हैं।

   इसलिए आपको उस  विषय को चुनना चाहिए  जिसके बारे में आप मास्टर हो ,  जिसमें आपकी रुचि हो और अधिक समय तक लिख उस पर  सकें। यह आपको सफलता, खुशी और सामाजिक पहचान दिलाने में मदद करेगा। इससे आपको दूसरों और अपने प्रतिस्पर्धियों से खुद को अलग करने में भी मदद मिलेगी। इसलिए हमेशा ऐसा विषय  चुनें जिसमें आपकी गहरी रुचि हो। इस लेख में, हम आपको सही विषय चुनने में मदद करेंगे और यह भी बताएंगे कि उस का उपयोग करके एक ब्लॉग कैसे शुरू करें।

1 बिना बोर हुए आप सोच सकते हैं ,  आप क्या लिख ​​सकते हैं ?

अपने ब्लॉगिंग विषय को चुनते समय यह सबसे महत्वपूर्ण कदम है। इस चरण में, आपको उन सभी विषयों का मूल्यांकन करना होगा, जिन्हें आप बोलना, लिखना और पढ़ना पसंद करते हैं। गहराई से सोचकर आप एक ब्लॉग बनाने के लिए सैकड़ों विचारों की खोज कर सकते हैं। कैसे ?

तो एक कलम और एक कागज़ ले ! अपनी सभी रुचिएँ लिखते हैं जो व्यक्तिगत या पेशेवर हो सकती हैं।

अब अपने शौक के बारे में सोचो !  यहाँ आप अपने शौक से संबंधित सबसे अच्छा ब्लॉगिंग विषय पा सकते हैं। या उन चीजों के बारे में सोचना शुरू कर दें जिन्हें आप बिना बोर हुए घंटों तक कर सकते थे।

आप क्या सीखना पसंद करते हैं

  ब्लॉगिंग के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि आप उन चीजों को साझा कर सकते हैं जो आप सीख रहे हैं।इसलिए जो आप सीखना चाहते हैं उसे खोजने की कोशिश करें और दूसरों को भी सिखा सकते हैं। यह आपको अपने ब्लॉग के लिए सही आला खोजने में मदद करेगा।

ब्लॉग उस विषय पर बनाओ जिसमें आप विशेषज्ञ हैं

हर लोगों के पास कुछ क्षेत्र होते हैं जिनमें वे विशेषज्ञ होते हैं। तो आपके पास भी कुछ क्षेत्र हैं जिसमें आप एक विशेषज्ञ हैं। यदि ऐसे विषय हैं जिनमें आपको बहुत ज्ञान है, तो यह आपके ब्लॉग के लिए सर्वश्रेष्ठ विषय हो सकता है। 

  उपरोक्त तरीकों को लागू करके आप अपने ब्लॉगिंग विषय को आसानी से पहचान सकते है ।

2 विषय में आपकी क्षमता

आपके ब्लॉग की सफलता पूरी तरह से आपके विषय के चयन पर निर्भर करती है। यदि आप एक ब्लॉग बना रहे हैं तो पहले उस विषय की पहले से चल रही साइट गूगल में सर्च करे और पता करें !!!

सर्च का रिजल्ट क्या  है?

  अब सर्च करने पर आपके विषय पर कितने सारे रिजल्ट दिखा रहा है ? खोज मात्रा यह तय करेगा कि आपका चयनित आला लाभदायक है या नहीं। अब उसमें ये होगा ….

A. संभावित परिणाम

आपके द्वारा चयनित विषय लाभदायक है या नहीं ये जानना आवश्यक है । क्योंकि तब तक आपको अपने ब्लॉग को प्रबंधित और रैंकिंग करते समय कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा या नहीं ये आप नही जान पाएंगे ।  इसलिए हमेशा उस विषय का चयन करें जो बहुत छोटा या बहुत बड़ा नहीं है।

उदाहरण के लिए, “क्रिकेट” लाखों कीवर्ड विचारों के साथ बहुत बड़ा और व्यापक है। तो क्रिकेट पर एक ब्लॉग बनाना आला आपके काम आने वाला नहीं है। उसी तरह,विषय चुनने के लिए कम खोज मात्रा बिना ट्रैफिक के कुछ काम नही आएगी ।  तो एक ऐसा विषय चुनें जो इतना बड़ा या इतना छोटा न हो जैसे कि “क्रिकेट बैटिंग टिप्स”।

यह अच्छी खोज मात्रा और कम प्रतिस्पर्धा के साथ का विषय बहुत बढ़िया है। (हम एक उदाहरण ले रहे हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको इस जगह पर काम शुरू करना होगा)।

विषय के विसातर जांच कैसे करें?

अपने विषय के विसातर की जाँच के लिए, आपको Google कीवर्ड प्लानर का उपयोग करना होगा। यह Google का फ्री टूल है जो दूसरों की तुलना में कई सटीक डेटा डेटॉ है। इसके अलावा, आप निल्स पटेल के Ubersuggest का भी उपयोग कर सकते हैं , जो फ्री है । यह टूल किसी कीवर्ड की खोज मात्रा और प्रतियोगिता को खोजने में मदद करता है।

  Google कीवर्ड प्लानर का उपयोग करके आप शानदार कीवर्ड पा सकते हैं, लेकिन यह आपको किसी कीवर्ड की सटीक सर्च रिजल्ट नहीं देगा ।

लेकिन आपके द्वारा खोजे जा रहे विषय पर Ubersuggest आपको सटीक डेटा (कभी-कभी यह भिन्न होता है) देगा। इसलिए, हम सुझाव देते हैं कि आप कीवर्ड  Ubersuggest को विशिष्ट कीवर्ड के लिए औसत रिजल्ट वॉल्यूम पाने के लिए Google कीवर्ड प्लानर टूल का उपयोग करें।

B. संभावित प्रतियोगिता

  यदि आपके विषय में प्रतिस्पर्धा है तो यह सीधी बात है कि लोग इस पर काम कर रहे हैं और यह लाभदायक है। ब्लॉगिंग क्षेत्र में आपको बैकलिंक बनाने में यही हेल्पफुल होगा ।  इसलिए अपने प्रतिस्पर्धियों को अपने मित्र के रूप में लें क्योंकि आपको उनकी साइट से एक लिंक लेने की आवश्यकता पड़ती है जो आपकी साइट की ऑथिरिटी को बेहतर बनाने में आपकी सहायता करेंगे ।

अब संभावित प्रतियोगिता कैसे खोजें ?

तो Google पर आप सीधे अपने विषय को Google पर डाल सकते हैं और खोज परिणाम देख सकते हैं।

इसके अलावा, आप “[विषय ] ब्लॉग” या “सर्वश्रेष्ठ [विषय ] ब्लॉग” के लिए सर्च  कर सकते हैं। और परिणाम देखें। आपको अपने विषय पर काम करने वाले कई ब्लॉग मिलेंगे। अब इनसे डरो मत जाना । यह एक अच्छा संकेत है कि लोग आपके विषय पर काम कर रहे हैं।

फेसबुक पर सर्च करें

फेसबुक दुनिया भर में सबसे बड़ा सोशियल नेटवर्क है। इसलिए फेसबुक पर अपने ब्लॉगिंग विषय को खोजना समझदारी भरा निर्णय होता है। यदि आप एक ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं तो यह विषय चयन में आपकी मदद करेगा। फेसबुक पर जाएं और अपने विषय से संबंधित पृष्ठों और समूहों की खोज करें। यदि ऐसे पृष्ठ हैं जिनमें न्यूनतम 1000 अनुयायी हैं तो आपका चयनित विषय बढ़िया है।

ट्विटर

ट्विटर व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले सोशल मीडिया प्लेटफार्मों में से एक है। यदि आप एक ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं, तो आप ट्विटर का उपयोग करके भी विषय पसंद कर सकते है ।

इसके लिए ट्विटर पर जाएं और अपने आला को खोजें। आपको अपने विषय से संबंधित ट्विटर खाते मिल जाएंगे। बस उन्हें जांचें और देखें कि वे क्या साझा कर रहे हैं। अगर उन ट्विटर अकाउंट में से कुछ के 1000 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं तो आपका विषय ब्लॉग शुरू करने के लिए काफी अच्छा है।

ये सभी आपके आला की संभावित प्रतियोगिता की जांच करने के टूल हैं।

C. मोनेटाइजेशन

क्या आप ऐसा ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं जो आपके लिए पैसे पैदा करे? यदि हाँ, तो यह यह विभाग आपके लिए है। लेकिन अगर आप अपने ब्लॉग को सिर्फ अपने शौक के कारण बनाना चाहते हैं तो हम आपको सलाह देते हैं कि आप अपने ब्लॉग का मोनेटाइजेशन करें।बहुत से लोग ब्लॉगिंग से हजारों कमा रहे हैं। तो आप क्यों नहीं?

अगर आप अपने ब्लॉग से पैसे कमाना चाहते हैं तो आपका विषय कोई मायने नहीं रखता। यदि आपका विषय उपरोक्त तीन चरणों को संतुष्ट करता है: Google, Facebook, और Twitter, तो आप अपने ब्लॉग से पैसे कमा सकते हैं।

कैसे पता करने के लिए कि आपका विषय मोनेटाइजेशन के लायक है या नही ?

  आप उपरोक्त तीन चरणों को लागू करके यह जान सकते हैं। Google, Facebook, और, Twitter पर खोजें और देखें कि क्या कोई आपके विषय से संबंधित जानकारी या उत्पाद बेच रहा है?अपने विषय से संबंधित सहबद्ध नेटवर्क के लिए खोजें।

यदि कोई नहीं लागू होता है, तो Google AdSense और media . Net जैसे कई विज्ञापन नेटवर्क हैं जो आपके ब्लॉग के लिए विज्ञापन सेवा प्रदान करते हैं
आप अपने ब्लॉग पर विज्ञापन डाल सकते हैं और हर क्लिक के लिए पैसे कमा सकते हैं।

3 अपना अंतिम निर्णय लें

सब बातें सोच समझकर अब आपके पास अपना विषय होगा । तो अब आगे बढ़ने का समय है । बारी है आपके ब्लॉग के लिए सबसे अच्छा डोमेन का चयन करने का !

क डोमेन नाम क्या है?

अब बात करें डोमेन की तो ये आपकी वेबसाइट का नाम है। डोमेन नाम वह चीज है  जिसकी मदद से लोग इंटरनेट पर आपकी वेबसाइट तक पहुंच सकते हैं। इंटरनेट पर कंप्यूटर खोजने और पहचानने के लिए डोमेन नाम का उपयोग किया जाता है। कंप्यूटर आईपी पते का उपयोग करते हैं, जो संख्याओं की एक श्रृंखला होती है। हालांकि, संख्याओं के तारों को याद रखना मुश्किल है। इस वजह से, डोमेन नाम विकसित किए गए और आईपी पते का उपयोग करने के बजाय इंटरनेट पर संस्थाओं की पहचान करने के लिए इसका उपयोग किया जाता हैं । 

सबसे बढ़िया डोमेन नाम चुनने के टिप्स !

यदि आपको ब्लॉग शुरू करना हैं तो सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा अपने लिए एक अच्छा डोमेन चुनना है। चलिए कुछ बेहतरीन टिप्स की बात करते हैं !

ऑलवेज गो ..कॉम ( .Com ) एक्सटेंशन
अपने डोमेन नाम में कीवर्ड शामिल करें , अपने डोमेन को छोटा रखें , ऐसा डोमेन चुनें जो उच्चारण और वर्तनी में आसान हो , यह अद्वितीय और ब्रांड बनने लायक हो , इसमे हाइफ़न से बचें , डबल लेटर्स को शामिल करने से बचें , अच्छी तरह से डोमेन नाम जनरेटरों का उपयोग करें
, और आख़िर में अपना डोमेन खरीदें ले ! बस इतना ही , सिम्पल था ना ?

1 हमेशा .com एक्सटेंशन पसंद करें

आजकल कई डोमेन एक्सटेंशन हैं जिनमें से आपको एक को चुनना होगा। हमेशा याद रखें कि आपका डोमेन आपका ब्रांड नाम होने जा रहा है। इसलिए इसे समझदारी से चुनें। यदि आप एक नया ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं तो हम हमेशा आपको एक .com डोमेन एक्सटेंशन चुने , क्योंकि यह उपयोगकर्ताओं द्वारा सबसे भरोसेमंद डोमेन है। साथ ही गूगल में बहुत जल्दी से रेंक होता हैं ।  डॉट-कॉम डोमेन याद रखना आसान है और लोगों को .com एक्सटेंशन पर भरोसा है क्योंकि यह सदाबहार डोमेन एक्सटेंशन है।

2 अपने डोमेन नाम में कीवर्ड शामिल करें

   आज तो ये बात बहुत काम की नही । लेकिन पहले इस पर काफी ध्यान दिया जाता था । आपके डोमेन से आपकी साइट की रैंकिंग का कुछ लेना देना नहीं ये गूगल में काम करने वाले एससीओ एक्सपर्ट बताते हैं । तो अब इस पर ज़्यादा बात करना फिजूल की बात होगी।  तो इसे आप यू ही छोड़ दे , कोई कहे तब भी छोड़ ही दे !

3 अपने डोमेन को छोटा रखें

अब ये जरा पते की बात हो सकती हैं । लोग आसानी से नाम याद रख पाए इसलिए अपने ब्लॉग का नाम यूनिक व छोटा रखे !जैसे जिओ ! लेकिन ये काम छोटा नहीं हैं , ये काम बहुत ही ज़्यादा रिसर्च और महेनत मांगने वाला काम हैं।  क्योंकि छोटा और सटीक नाम ढूंढना बहुत ही मुश्किल काम होता है। फिर भीआपको हमेशा एक छोटा डोमेन चुनना चहियर । अधिकतम 15 अक्षर वाले डोमेन का उपयोग करना हमेशा अच्छा होता है। जैसा कि पहले कहा , डोमेन नेम अब बड़ी बात नही इसलिए आप सर्च इंजिन जर्नल जैसा लंबा नाम वाली वेबसाइट भी बहुत सफल हो सकती हैं । ये बात अब कपड़े जैसी हैं , कपड़े नही इंसान का ज्ञान मायने रखता हैं।  बस आगे आप खुद समझ ले !

# 4  उच्चारण और वर्तनी में आसान डोमेन का चयन करें

डोमेन नाम वह चुने जो उच्चारण और वर्तनी में आसान है। क्योंकि ये लोग यूनिक चीज फटाक से याद रख लेते हैं ।

# 5  अद्वितीय और ब्रांड बनने लायक डोमेन का पावर

अद्वितीय डोमेन नाम चुनना आपको एक ब्रांड बनाने में मदद करता है। इसलिए एक ऐसा डोमेन चुनने की कोशिश करें जो दूसरों से अलग हो और ब्रांडेड लगे ।  यह आपके पाठकों को आपके डोमेन को याद रखने में मदद करेगा ताकि वे आपके डोमेन को सीधे टाइप करके आपके ब्लॉग पर जा सकें।

लेकिन इसका मतलब ये भी नही की आप पहले से पंजीकृत ब्रांड नामों का इस्तेमाल कर ले । ऐसा करना आपको भारी पड़ सकता हैं । जेब और शरीर दोनों के लिए ! क्योंकि बड़ी ब्रांड आपकी वाट लगा देगी । सीधा जेल का सफर हो सकता हैं। 

# 6 डोमेन में हमेशा हाइफ़न से बचें

डोमेन में हाइफ़न कांउप्योग यानी आप बता रहे है कि आप स्पैमिंग कर रहे हैं। इसलिए कभी भी अपने डोमेन में हाइफ़न का उपयोग न करें। साथ ही ये एसईओ के लिए भी अच्छा नहीं है । ये विजिटर्स पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। सबको को लगता है कि आपकी वेबसाइट वास्तविक नहीं है और उस पर कभी भी कोई क्लिक नहीं करेगा ।

# 7 डबल लेटर्स को शामिल न करें

  अगर आप अपने ब्लॉग को ब्रांडेड बनाना चाहते हैं तो आपको अपने डोमेन में दोगुने अक्षरों का उपयोग न करें ।  दोहरे अक्षरों के उपयोग से आप अपना ट्रैफ़िक भी खो सकते है ।

# 8 अपना डोमेन खरीद ले !

हा , अगर आप के पास आपके डोमेन का नेम आ जाये तो उसे तुरंत खरीद लेना चाहिए । क्योंकि  रोजाना हजारों डोमेन रजिस्टर होते हैं। इसलिये हो सकता हैं आपके सोचे हुए डोमेन पर किसी और का रजिस्ट्रेशन हो जाये तो तुरंत अपना डोमेन रजिस्टर करवाये !

# 9 डोमेन नाम खरीदने के लिए सबसे अच्छे प्लेटफार्म

  बाजार में सैकड़ों डोमेन नाम रजिस्ट्रार उपलब्ध हैं, लेकिन आपको उनमें से सबसे अच्छा चुनना होगा। डोमेन नाम रजिस्ट्रार चुनना एक मुश्किल काम नहीं है।

अब बात हैं ब्लॉग बनाने की तो यह हम अलग-अलग ब्लॉगिंग प्लेटफार्मों को जानेंगे ! अब आपको ब्लॉगिंग प्लेटफार्म कैसा चहिये तो वह

◆ प्रयोग करने में आसान हो

उस ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करना आसान होना चाहिए ताकि आप इसे बिना किसी समस्या के उपयोग कर सकें।

◆ यूजर फ्रेंडली

शुरुआत में आपको अपने ब्लॉग को प्रबंधित करने का  तकनीकी ज्ञान आपके पास नहीं होगा । इसलिए  ब्लॉग शुरू करने के लिए यूजर फ्रेंडली ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म चुनना बहुत जरूरी हैं ।

◆ बहेतरीन फीचर्स

   ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म में फीचर्स होने चाहिए । इसका मतलब है कि आपको किसी भी सुविधा के लिए कहीं भी जाने की आवश्यकता न हो । आपका प्लेटफार्म उन सभी सुविधाओं से लैस होना चाहिए जो ब्लोग शुरू करने के लिए आवश्यक हो ।

◆ एक्सपैंड हो सकना चाहिए ।

ब्लॉगिंग प्लेटफार्म  सुविधा से भरपूर होने के साथ अपग्रेडेशन का भी विकल्प होना चाहिए ।  मतलब शरुआती सुविधा लेने के बाद वेबसाइट के ग्रोथ के बाद उसे रिसोर्स चाहिए तो वह भी आपको वही से मिल जाने चाहिए। 

कुछ प्लेटफार्म की बात करते हैं ;

# 1 wordpress(.) Org

अब ये ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर है जो बिल्कुल मुफ़्त है । लेकिन ऑनलाइन आपको wordpress(.)org  और wordpress(.)com इस तरह से दो वर्डप्रेस मिलेंगे । जो एक दूसरे से अलग है।  इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपकी साइट पर आपका सम्पूर्ण नियंत्रण रहता है। आप किसी भी तरह की कोई भी साइट बना सकते हैं जिसे कोई भी बंद नहीं कर पाएगा । आपको लगता है कि आप अपने ब्लॉग के साथ इसे अगले स्तर तक ले जाना चाहते हैं या नहीं, मेम्बरशिप साइट, ई-कॉमर्स जैसी सुविधाओं को जोड़ना चाहते है या आप आपकी साइट को जैसी चाहे वैसे बना सकते हैं, तो यह सब कुछ है।

   इसके साथ वर्डप्रेस ओआरजी पर हजारों प्लगइन्स हैं जो आपकी साइट को बनाने में मदद करते हैं जो आपके ब्लॉग की कार्यक्षमता बढाते सकते हैं। साथ ही इस प्लेटफार्म पर हजारों थीम अवेलेबल है वह ही फ़्री में !
बस आपको इन प्लगिन उर थीम्स को समय समय उपलब्ध होने वाले अपडेशन के साथ अपडेट रखना होगा  । 

मूल्य

अब बात करते हैं इसके मूल्य की तो वर्डप्रेस का उपयोग करना बिल्कुल मुफ्त है लेकिन ब्लॉग शुरू करने के लिए आपको एक डोमेन और एक होस्टिंग की आवश्यकता रहती है।

# 2 वेबसाइट बिल्डर

  आप वेबसाइट बिल्डर और इसके मुफ्त का उपयोग करके जोरदार ब्लॉग बना सकते हैं।  ए.आई. संचालित वेबसाइट बिल्डर जो आपको मिनटों के भीतर एक मुफ्त ब्लॉग, व्यवसाय वेबसाइट और यहां तक ​​कि एक ऑनलाइन स्टोर बनाने में भी मदद करता है। इसमें सैकड़ों टेम्प्लेट का संग्रह होता है, जिसका उपयोग आप ब्लॉग को शुरू करने और उसे एडिट करने के लिए कर सकते हैं। साथ ही ड्रैग एंड ड्रॉप फीचर होता है जो साइट बनाना और भी आसान बनाता है। इसमें लोगो और फोटो लाइब्रेरी भी शामिल होती है, जिसमें 1 मिलियन से अधिक तस्वीरें उपलब्ध होती हैं।

अगर आप वेबसाइट बिल्डर से ब्लॉग बनाते है तो उस के लिए किसी भी तकनीकी कौशल की आवश्यकता नहीं होती । ये एक आसान-से-उपयोग ड्रैग एन्ड ड्राप करके आप  वेबसाइट बना सकते हैं ।

  ये पेज बिल्डर से बना ब्लॉग रिस्पांसिव होता हैं।  जो आपकी वेबसाइट को एक प्रोफेशनल वेबसाइट बना डेटॉ है।  इसका सेटअप और कस्टमाइजेशन आसान होता हैं। 
   वैसे वेबसाइट बिल्डर कई तरह के आते है । जिनमे से बहुत से मुफ्त होते है।  और कई पेयड़ होते ही। जिनमे से बहुत से ट्रायल पीरियड भी देते हैं।  ट्रायल खत्म होने के बाद आओ इनके प्रीमियम वर्जन खरीद सकते हैं।

# 3 HostGator का  गेटोर

   बहुत नामी  वेब होस्टिंग कंपनी HostGator की भी
अपनी वेबसाइट बिल्डर है जिसे कॉल गेटोर कहा जाता है। यह एक ड्रैग एंड ड्रॉप्स टूल है जो आपको बिना कोडिंग ज्ञान के एक सुंदर वेबसाइट बनाने में मदद करता है। आप Gator की वेबसाइट बिल्डर का उपयोग करके किसी भी प्रकार की वेबसाइट को एक निजी ब्लॉग या व्यावसायिक वेबसाइट बना सकते हैं। HostGator की वेब होस्टिंग सेवाएँ Gator वेबसाइट बिल्डर से बिलकुल अलग हैं। यदि आप HostGator की वेब होस्टिंग सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं तो Gator चुनना आवश्यक नहीं है। यदि आप एक ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं और वर्डप्रेस आपके लिए अनिवार्य नहीं है तो आप गेटोर को अपना वेबसाइट बिल्डर मान सकते हैं।

आसानी से अपने ब्लॉग को एक साधारण ड्रैग और ड्रॉप वेबसाइट बिल्डर के साथ कस्टमाइज़ करें। आप बिना किसी तकनीकी ज्ञान के अपना ब्लॉग सेट कर सकते हैं।
HostGator बैकअप, प्रदर्शन और सुरक्षा जैसे सभी बैक एंड कार्यों को संभालती है। नि: शुल्क डोमेन और एसएसएल प्रमाणपत्र सभी भुगतान की गई योजनाओं के साथ पूर्व में शामिल हैं। आप Gator वेबसाइट बिल्डर के साथ अपने व्यवसाय के लिए एक ऑनलाइन स्टोर भी बना सकते हैं ।

HostGator द्वारा कोई मुफ्त खाता प्रदान नहीं किया जाता है, लेकिन आप मनी-बैक गारंटी योजना के तहत 45 दिनों के लिए उनकी सेवाओं की कोशिश कर सकते हैं। आप उच्च योजनाओं के साथ ई-कॉमर्स सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। प्लगइन्स और एक्सटेंशन अन्य प्लेटफार्मों की तुलना में सीमित हैं।

मूल्य समय-समय पर बदलता रहता है। नवीनतम मूल्य निर्धारण की जानकारी के लिए आप आधिकारिक वेबसाइट देख सकते हैं।

# 4 WordPress(.)com

अब ये  एक कंपनी है जिसे wordpress ( . ) Org के  संस्थापक मैट मुलेनवेग ने बनाई है। यह मुफ्त है जिसका उपयोग करके आप एक साधारण ब्लॉग बना सकते हैं। आप कस्टम डोमेन, स्टोरेज और अन्य सेवाओं जैसी अतिरिक्त सेवाओं को खरीद सकते हैं। सन 2005 में WordPress(.) Com की कंपनी Automattic ने शुरू की थी । अगर आप फ्री में वर्डप्रेस सीखना और आज़माना चाहते हैं तो ब्लॉग शुरू करने के लिए यह सबसे अच्छा प्लेटफॉर्म है ।

आपको इसमे किसी विशेष सेट अप की आवश्यकता नहीं रहती । इसका उपयोग करना बहुत आसान है। यह जीवन भर के लिए पूरी तरह से मुक्त है लेकिन इसमे आप डोमेन , थीम और प्लगइन्स को इंस्टॉल नहीं कर सकते । और एक बात की आपकी साइट पर यह कंपनी अपना विज्ञापन डिखायेगी । और ख़ास बात ये की आप का ब्लॉग पूरी तरह से wordpress ( . ) के कंट्रोल  में होगा। इसलिए हो सकता है इस कंपनी की कोई  शर्त का उल्लंघन करने के कारण ये आपका ब्लॉग कभी भी डिलीट कर दे ।

यह ब्लॉग पूरी तरह से मुफ्त है। लेकिन वर्डप्रेस आपके ब्लॉग पर विज्ञापन दिखायेगा ।

कुछ समय का उपयोग करने के बाद अगर आप अपग्रेड करना चाहते हैं तो इसकी कीमत आपको लगभग $ 4 / महीना होगी । तब वर्डप्रेस अपना लोगो आपकी वेबसाइट से हटा देगा। प्रीमियम प्लान में आपको मुफ्त में एक कस्टम डोमेन भी मिलता है। अतिरिक्त स्टोरेज की आवश्यकता होने पर आप अपना प्लान अपग्रेड  भी करवा सकते  हैं।

# 5 ब्लॉगर

ब्लॉगर उन लोगों के लिये  है जो मुफ्त में ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं। यह Google का प्रोडक्ट है जिसे विशेष रूप से कम तकनीकी लोगों के लिए डिज़ाइन किया गया है। ब्लॉगर की शरुआत  सन 1999 में Pyra Labs ने की थी और 2003 में Google इसे खरीद लिया था। 

यह newbies के लिए सबसे अच्छा प्लेटफॉर्म है जो कम  के साथ एक ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं। ब्लॉगर का उपयोग करने के लिए आपको बस एक Google खाते की आवश्यकता होती है।

ब्लॉगर पूरी तरह से स्वतंत्र है । ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाने के लिए आपको किसी तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता नहीं है। यह google का ही प्रोडक्ट है।  आपको अपने ब्लॉग की सुरक्षा के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।
होस्टिंग जीवन भर के लिए मुफ्त है।

ब्लॉगर कुछ बुनियादी ब्लॉगिंग टूल तक सीमित है और आप नई सुविधाएँ नहीं जोड़ सकते हैं। कुछ प्रीमियम थीम उपलब्ध हैं लेकिन गुणवत्ता कुछ खास नहीं होती हैं।

Google समय-समय पर  अपडेट नहीं करता है। आपके पास अपने ब्लॉग का स्वामित्व नहीं है। इसे बिना किसी पूर्व सूचना के किसी भी समय Google उसे डिलीट कर  सकता है। हमारा सुझाव है की आप शुरुआती समय मे ब्लॉगिंग सीखने के लिए इसका इस्तेमाल करे क्योंकि ब्लॉगर केवल और केवल मोनोरंजन के लिए बना है ना की ब्लॉगिंग के लिये ।

ब्लॉगर जीवन भर के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र है हालाँकि आपको आवश्यकता होने पर एक कस्टम डोमेन खरीद के उससे आप ब्लॉगर को कांटेक्ट कर सकते है। वरना गूगल का ब्लॉग्स्पॉट सब डोमेन आप को फ्री में मिलता ही है। 

# 6 Tumblr

Tumblr एक माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म है और दूसरे ब्लॉगिंग प्लेटफार्मों से अलग है। दूसरे शब्दों में, यह ब्लॉगर्स का सोशल नेटवर्क है जहाँ आप अन्य ब्लॉगों का अनुसरण कर सकते हैं। आप इसे सबडोमेन के साथ उपयोग करना चाहते हैं तो आप स्वतंत्र है। साथ ही, आप अपने Tumblr ब्लॉग में एक कस्टम डोमेन जोड़ सकते हैं। इसमें सोशल मीडिया शामिल हैं। Tumblr वीडियो, चित्र, ऑडियो आदि साझा करने के लिए सबसे अच्छा है।

आप अपने ब्लॉग की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए थीम या प्लग इन जैसी सुविधाओं का उपयोग नहीं कर सकते। बैकअप लेना और अपने Tumblr ब्लॉग को दूसरे प्लेटफॉर्म पर ले जाना बहुत मुश्किल है।

Tumblr का उपयोग करना पूरी तरह से स्वतंत्र है लेकिन अगर आप इसमें एक कस्टम डोमेन जोड़ना चाहते हैं तो आपको इसे खरीदना होगा। यदि आप तृतीय-पक्ष थीम और प्लगइन्स जोड़ना चाहते हैं तो आपको उन्हें खरीदना होगा।

# 7 medium

Medium ऐसा मंच है जहां आप सीमित सामाजिक नेटवर्किंग सुविधाओं के साथ एक ब्लॉग शुरू कर सकते हैं। यह 2012 में स्थापित किया गया था और डिजिटल विशेषज्ञों के समुदाय के रूप में जाना जाता है। अन्य ब्लॉगिंग प्लेटफार्मों की तरह नहीं है जहां आप अपने कस्टम डोमेन जोड़ सकते हैं। यह एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की तरह है जहां आप लेख पोस्ट कर सकते हैं

आपको माध्यम का उपयोग करने के लिए किसी भी सेटअप या कोडिंग कौशल की आवश्यकता नहीं है।  ये सबसे लोकप्रिय ब्लॉगर ब्लॉग है। इसलिए आप अपने ज्ञान को बेहतर बनाने के लिए इसका इस्तेमाल सकते हैं। आपको ब्लॉग बनाने की प्रक्रिया के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। आपको  केवल लेखन सामग्री पर ध्यान देना होता है ।

विपक्ष

मीडियम में आप अपने खुद का ब्रांड नही बना सकते।  
नियम और शर्तों का उल्लंघन करने पर किसी भी समय आपका खाता डिलीट किया जा सकता है। अपने स्वयं के डोमेन नाम का उपयोग करने का कोई विकल्प नहीं है।
आप माध्यम से पैसा नहीं कमा सकते। (विज्ञापन रखकर)

मूल्य न

मीडियम बिल्कुल फ्री है ।

ऊपर हमने एक ब्लॉग शुरू करने के लिए 7 सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगिंग प्लेटफ़ॉर्म पर चर्चा की है। लेकिन वे सब आपके लिए नहीं हैं। यदि आप लंबे समय तक ब्लॉगिंग में बने रहना चाहते हैं तो हम आपको हमेशा वर्डप्रेस का उपयोग करने की सलाह देते हैं। अगर आपके पास निवेश करने के लिए पैसे नहीं हैं तो क्या करें? उस स्थिति में, हम आपको ब्लॉगर पर ब्लॉग शुरू करे । फिर वहां ओर से कुछ कमाई करके आप वर्डप्रेस पर जा सकते है ।

ब्लॉगर पर एक ब्लॉग कैसे शुरू करें?

तो आप एक ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं और पैसे नहीं हैं। चिंता मत करो।

ब्लॉगर आपके ब्लॉगिंग कैरियर को शुरू करने के लिए सबसे अच्छा मुफ्त मंच है। इस खंड में, हम आपको एक वेबसाइट बनाने के लिए ब्लॉगर का उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका सिखाएंगे।

इसके लिए आपको केवल एक जीमेल अकाउंट की जरूरत होती है। हमें लगता है कि आप जानते हैं कि जीमेल अकाउंट कैसे बनाया जाता है।

स्टेप 1

अपने किसी भी ब्राउज़र से ब्लॉगर की वेबसाइट पर जाए। वहां पर  क्रिएट यू ब्लॉग पर क्लिक करें।

स्टेप  2

फिर अपनी जीमेल आईडी और पासवर्ड से लॉग इन करें। यह आपको अपने ब्लॉगर प्रोफ़ाइल के लिए एक प्रदर्शन नाम सेट करना होगा । इसके बाद Continue To Blogger पर क्लिक करें।

स्टेप  3

इस चरण में, बायीं ओर सबसे कोने में स्थित न्यू ब्लॉग टैब पर क्लिक करें।

अब अपने ब्लॉग के लिए शीर्षक लिखें।  अपने ब्लॉग के लिए यूआरएल  चुनें और एक विषय चुनें। इसके बाद Create Blog पर क्लिक करें।

अब आपका ब्लॉग तैयार है। आप उस पर पोस्ट करना शुरू कर सकते हैं।

वर्डप्रेस पर ब्लॉग कैसे शुरू करें?

पहले हमने ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाने की बात की अब बात करते हैं की वर्डप्रेस पर ब्लॉग कैसे बनाये। तो उसके लिए आपको ….

01 होस्टिंग कैसे खरीदे
02 डोमेन को होस्टिंग कनेक्ट करने या
03 वर्डप्रेस इंस्टाल करना
04 एसएसएल सर्टिफिकेट इंस्टॉल करना
05 वर्डप्रेस की सेटिंग
06  विषय का चयन
07 थीम कस्टमाइजेशन
08 वर्डप्रेस डैशबोर्ड की सेटिंग
09 महत्वपूर्ण प्लगइन्स
10 संदर्भ

डोमेन नाम और होस्टिंग सबसे पहले आपको खरीदनी पड़ेगी तभी आप वर्डप्रेस पर ब्लॉग बना पाएंगे । 

  वेब होस्टिंग खरीदते समय एक बात का ध्यान रखे कि ये होस्टिंग आपके ब्लॉग का भविष्य तय करेगी तो उसे खरीदते एमी बहुत सावधानी रखे।  उसके आपको ध्यान में रखना होगा कि …

# 1 वर्डप्रेस की सुविधा हो

आज कल बिना कोडिंग के आप सिर्फ ड्रेग एंड ड्राप से बड़ी सुंदर वेबसाइट बना सकते हैं । लेकिन उसके लिए आप जिस होस्टिंग को खरीद रहे है उसमें वर्डप्रेस इंस्टॉल करनी की सुविधा , फ़्री थीम्स , प्लुगिन्स इंस्टॉल करने की सुविधा , वेबसाइट बिल्डर जैसे फीचर्स होने आवश्यक हैं ।

# 2 SSD स्टोरेज होना चाहिए

वेब होस्टिंग चुनते समय सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि  SSDs स्टोरेज होना चाहिए । जो HDD की तुलना में यह 10x तेज है।

इसलिए हमेशा एसएसडी स्टोरेज देने वाली योजना चुनें। यह आपके ब्लॉग को सुपर फास्ट बना देगा और Google को फास्ट लोडिंग वेबसाइट को जल्दी रेंक करता  है। इससे आपको अपने ब्लॉग को रैंक करने में मदद मिलेगी।

# 3 बैंडविड्थ

बैंडविड्थ का मतलब है  कि आपकी साइट कितने ट्रैफ़िक को संभाल सकती है। अगर आप नौसिखिया हैं तो बैंडविड्थ की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। सभी लोकप्रिय होस्टिंग प्रदाता अपने सभी प्लान के साथ पर्याप्त मात्रा में बैंडविड्थ देते हैं। लेकिन किसी भी मुफ्त होस्टिंग का इस्तेमाल न करे क्योंकि आप निश्चित रूप से उसमे समस्या का सामना करेंगे। जितना अधिक ट्रैफ़िक उतना अधिक बैंडविड्थ आपको चाहिए। सभी वेब होस्टिंग प्रदाता अतिरिक्त बैंडविड्थ भी देते हैं।

# 4 स्टोरेज

अधिकांश होस्टिंग प्लान असीमित स्टोरेज कहते है लेकिन ऐसा होता नही । और हो भी नही सकता । सब की सीमाएं होती  हैं। हालाँकि, अधिकांश छोटी व्यावसायिक साइटों के लिए, कम लागत साझा होस्टिंग योजना आपके सभी स्टोरेज आवश्यकताओं को पूरा करेगी। जब तक आपकी साइट पर बहुत सारी वीडियो या संगीत फ़ाइलें न हो । हतब तक आपको 1 जीबी से अधिक स्थान की आवश्यकता नहीं रहती  है।

# 5 अपग्रेड की सुविधा

   अगर आपकी साइट पर ट्रैफ़िक में भारी वृद्धि हो जाती जाती है तो उसके लिए उर ज्यादा सीपीयू पावर और स्टोरेज चाहिए । तो आपकी होस्टिंग कंपनी में ये जरूर जांचे की वह अपग्रेड की सुविधा देती है या नहीं । जैसे वीपीएस या डेडिकेटेड सर्वर !

# 6 कंट्रोल पैनल

जब आप होस्टिंग के लिए साइन अप करते हैं, तो आप एक कंट्रोल पैनल दिया जाता है। आजकल सिपेंल ज्यादा इस्तेमाल होता है । वह सरल भी है तो आपको जरूर देख लेना चाहिए कि आप के होस्टिंग में ये है या नही ?

# 7  24/7 सहायता

जब तकनीकी समस्याएं आती हैं, तो आपको त्वरित मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। अच्छा होस्टिंग प्रदाता 24/7 सहायता प्रदान करते हैं ताकि कुछ गलत होने पर आप अपने प्रॉब्लम उनको बता सके और वे आपकी मदद कर सके । आज कल लाइव चेट , ईमेल और फोन कॉल के जरिये कई होस्टिंग प्रोवाइडर सहायता देते है।   साथ ही सर्वर डाउन कितना रहता है उसके लिए आप को होस्टिंग का अप्टाइम भी देखना चाहिए । ज्यादातर  99.99% अपटाइम कहते है । तो सबसे महंगे वेब होस्टिंग पैकेज पांच निन्यानवे (99,999%) का वादा करते हैं, जहां अधिकतम अनुसूचित डाउनटाइम सिर्फ पांच मिनट से ज़्यादा रहता  है।

# 8 सर्वर स्थान

आपके विजिटर्स के लिए एक डेटा सेंटर जितना करीब होगा, साइट लोड उतना ही तेज़ होगा। यदि आपके सभी आगंतुकों के लिए एक क्षेत्र से आना संभव है, तो आप आपके विज़िटर्स जहां से ज्यादातर आते है वहा का सर्वर लोकेशन चुने। वैसे आप क्लाउदफ़्लेर जैसे सीडीएन का प्रयोग भी कर सकतें हैं ।

# 9  बैकअप

   आप की वेबसाइट पर कई तरह का कंटेंन होता है । कभी टेक्निकल या भूल से वेबसाइट डिलीट होने पर उसका बैकअप हो तो बड़ी आसानी हो जाती हैं। तो होस्टिंग प्रोवाइडर बैकअप देता है या नही ये अवश्य चेक कर ।

# 10  संदर्भ

   आपको कंटेंन लिखना होगा । इसके लिए आपको रिसोर्स और संदर्भ चाहिए ही।  तो उसका प्रबन्ध भी कर ले । कभी कभी ये सबसे महत्वपूर्ण होता है , साथ ही महंगा भी । तो इसका विचार अवश्य करें ।

ये 10 चीजें हो हाने के बाद समय आता है ब्लॉग शुरू करने का !

01 होस्टिंग के साथ डोमेन कनेक्ट करना


  होस्टिंग प्रोवाइडर से उनके नेमसर्वर ले ले । फिर डोमेन जहां से लिया हो उस एकाउंट में DNS पर क्लिक करें।

Nameserver सेक्शन में जाएँ और चेंज बटन पर क्लिक करें। यह आपको आपकी होस्टिंग के नेमसर्वर को वहाँ पेस्ट करना होगा।  बस हो गया । अब 24 घण्टे से कम समय मे आपकी होस्टिंग और डोमेन एकदूसरे से कनेक्ट हो जाएंगे ।

02 वर्डप्रेस को इनस्टॉल करना

अब वर्डप्रै इंस्टाल करने के दो तरीके है। लेकिन हम आपको सीधा तरीका बताते है ।

◆ होस्टिंग के एकाउंट में सिपेंल को ओपन कर ले ।
◆ सॉफ्टकलौड़ नाम के ऑप्शन पर क्लिक करे ।
◆ वर्डप्रेस के आइकॉन पर क्लिक करे ।
◆ डोमेन और दूसरी इन्फॉर्मेशन फिलअप करके वर्डप्रेस इंस्टॉल कर दे ।

03 SSL सर्टिफिकेट इंस्टॉल करे

एसएसएल सर्टिफिकेट छोटी डेटा फाइलें हैं जो डिजिटल रूप से किसी संगठन के विवरण में एक क्रिप्टोग्राफिक कुंजी को बांधती हैं। जब एक वेब सर्वर पर स्थापित किया जाता है, तो यह पैडलॉक और https प्रोटोकॉल को सक्रिय करता है और वेब सर्वर से ब्राउज़र तक सुरक्षित कनेक्शन की अनुमति देता है।

SSL प्रमाणपत्र इंस्टॉल करना

वैसे तो आज कल बहुत से होस्टिंग प्रोवाइडर जब आप वर्डप्रेस इंस्टॉल करते है तब ओटोमेटिक SSL सर्टिफिकेट इंस्टॉल करके ही देते है ।

  अगर ऐसा न हो तो आप सी पैनल में हॉकर SSL स्टेटस में जाकर ऑटोमेटिक  SSL CERTIFICATE रन कराकर उसे फ़्री इंस्टॉल कर सकते हैं। वैसे

04   वर्डप्रेस थीम इंस्टॉल व कस्टमाइजेशन


  आजकल वर्डप्रैस की बहुत सारी थीम्स आती हैं ।उसमें फ़्री , प्रीमियम दो मुख्य है । लेकिन उससे भी अलग क्रेक थीम्स , नल्ड थीम और जीपीएल थीम आती हैं ।

सीधी सलाह की पैसे का जुगाड़ हो तो प्रीमियम थीम खरीद ले अगर नही तो अपनी औकात में रहकर फ़्री थीम का उपयोग ही करे । क्रेक , नल्ड या जीपीएल थीम आपको सिर्फ़ नुकसान ही करेगी । तो उससे दूर रहे ।

  आप अपनी थीम का चयन करके अपीरियंस के ऑप्शन में कास्टमाइजेश ऑप्शन में अपना मनपसन्द कास्टमाइजेश कर सकते है । आप वहाँ आपकी साइट केसी दिखेगी , कौन सी चीज कहा पर रहेगी इसकी सेटिंग कर सकते है । लोगो वैगेरह सब यहां पर होगा। 

05 प्लगिन्स को इंस्टॉल करना

    अलग अलग वेबसाइट के लिए अलग अलग plugins की आवश्यकता रहती है। तो अपनी जरूरत के हिसाब से उसे चुने और उसका इस्तेमाल करे ।

06 वर्डप्रैस डेशबोर्ड की सेटिंग

  डेशबोर्ड में आपको सेटिंग ऑप्शन में जाकर आपकी साइट का नाम , टाइमजोन , दिनांक , आपकी साइट पर पंजीकरण करने वाले का रोल , मीडिया सेटिंग , पेज सेटिंग , पोस्ट की संख्या , पोस्ट की लिंक का कस्टमाइजेशन , साइट से जुड़ी सेटिंग करनी होगी । जो आप बड़े ध्यान से पढ़कर करे ।

07 पेज

  आपको आपकी वेबसाइट पर कुछ पेज बनाने होंगे । जैसे कॉन्टेक्ट अस , प्राइवसी पॉलिसी , टर्म्स एन्ड कंडीशन , डिस्क्लेमर , अबाउट अस जैसे पेज बनाने होंगे ।

08 पोस्ट लिखना

सब टेक्निकल सेटिंग पूरी होने के बाद आप पोस्ट लिख ने की शरुआत कर सकते हैं । अब पोस्ट कैसे लिखे उस विषय ओर आपके बहुत सी पोस्ट और वीडियो मिल जाएगी । लेकिन यकीन मानिए आप अपनी तरह से लिखिए । उससे बहेतर कोई तरीका नही है इस दुनिया में !

09 ब्लॉग एक्सपैंडेशन

  जैसे जैसे आपका ब्लॉग ग्रो करे आप अपने ब्लॉग में प्रीमियम फीचर्स एड करते जाइये । आपके ब्लॉग को धीरे धीरे बिजनेस में कन्वर्ट करे और स्थायी इनकम व ब्रांड का सफ़र शरू कीजिये। 

10 सार

   महेनत के बिना होगा कुछ नही , कॉपी पेस्ट से नही होगा , ट्रैफिक खरीद ने से नही होगा , ना बेकलिंक बनाना से ! महेनत तो लगेगी !
  बेस्ट ऑफ लक !

कोई तकनीकी प्रश्न हो तो कमेंट बोक्ष में पूछ सकते हैं ।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap
%d bloggers like this: