Check this 3 points before starting blogging in hindi

Check this 3 points before starting blogging in hindi

वैस तो इस विषय पर पहले से ही बहुत सारे आर्टिकल्स और वीडियो हैं लेकिन हर एक में जो बातें बताई गई है वह एक तरह से सही हैं तो साथ साथ उनके ब्लॉग को सफल बनाने की कोशिश में कहि कहि बड़ी आसानी से कुछ बहुत ही जरूरी चीजो को छोड़ दिया गया हैं । शायद जान बूझकर या अनजाने में ! खैर उस बात को हम यही ओर छोड़कर हम आप को ” how to start a blog anytime ? ‘ के जवाब में पूरा और सटीक जवाब देने वाले है । हम 5 सालों से ब्लॉगिंग व डिजिटल फील्ड में है । आज तक के सब अनुभव व जानकारी को मिलाकर हम आपसे ये लेख सांझा करेंगे । आशा है कि ब्लॉगिंग की फील्ड में नए आने वालों के लिए यह लेख एक माईलस्टोन साबित होगा !

Very important 3 point before starting a blog .

Check this 3 points before starting blogging in hindi
Check this 3 points before starting blogging in hindi

कोई भी इंसान अगर ये तीन स्टेप फॉलो करता है तो उसकी सफ़लता की गारंटी हम देते हैं । चलिए जानते हैं की ये तीन स्टेप्स कौनसे है । अब ये लेख पांच हजार या पच्चीस हजार वर्ड्स का नही होने वाला । सब पॉइंट क्लियर कट सीधी भाषा मे कहेंगे ।

01 ब्लॉग क्यों शरू करना चाहते हैं ?
02 संदर्भ साहित्य की तैयारी हैं ?
03 पैसो का क्या ?

अब एक एक बात को समझ लेते हैं : –

01 ब्लॉग क्यो शरू करना चाहते हैं ?

यूट्यूब ओर आपने एक वीडियो देखी की किस तरह से आप ब्लॉगिंग से बड़ी आसानी से 25,000 से 50,000 ₹ कमा सकते हैं । आपकी आंखें धरि की धरी रह गई कि वाह क्या बात है ? इतने सारे पैसे वह भी मोबाईल या लैपटॉप से ! वह भी हर महीने ! वाह , वाह क्या बात हैं ? फिर क्या आप कूद पड़े ब्लॉगिंग में । फिर क्या ? एक दो महीने बाद आप को मालूम पड़ता है कि खाया पिया कुछ नही ग्लास तोड़ा कुछ हजार रुपयो का !
अब किसी ने कहा या आपने सुना या आपके दोस्तों को कमाता देखकर या किसी ओर के कहने पर अगर आप ब्लॉगिंग ही नही कोई भी काम करोगे तो आपको एक ही फल मिलता है – बाबूजी का ठुल्लू !

तो अगर आप सच मे ब्लॉगिंग में अपना करियर बनाना चाहते है तो खुद की इच्छा से आइये । किसी को देखकर या पैसे कमाने की इच्छा से आ रहे है तो हम अपने पांच साल के अनुभव से कहते है की , ‘ राही घर को वापिस लौट जा ! ‘

तो आपका इस फील्ड में कोई काम ही नही । क्योंकि दुनिया मे कोई भी काम बड़ी आसानी से नहीं हो सकता । उसमे वक्त लगता है , पसीना लगता है , खून लगता है , विश्वास लगता है , धीरज लगती और बहुत कुछ लगता है । जरा सोचिए एक सामान्य दी रोटी भी बनानी हो तो उसके लिए भी आपको आटा गुंदना पड़ता है ! उस मे भी अगर पंखा न चलता हो ना पसीना निकल जाता है ! अब जरा सोचिए कि जो दुनिया दिखती ही नही , सिर्फ ऑनलाइन ही उसका अस्तित्व है उसमें से सच के पैसे निकालने है ! कितनी मेहनत लगती होगी ! और आप जितना सोचते है ना उससे कहि ज़्यादा महेनत लगती है । साथ साथ ये भी कह दे कि महेनत की बावजूद आपको सफ़लता मिलेगी ही इसकी भी कोई गांरटी नहीं है । क्योंकि महेनत के साथ साथ नसीब का फेक्टर भी काम करता है । क्योंकि जितना आप सोच सकते हो ना उससे भी बड़ी विचित्र है ये ऑनलाइन की दुनिया ! तो सिर्फ़ दुसरो की देखादेखी या बस ऐसे ही ब्लॉगिंग में मत आइए । हा , अगर आपमे विश्वास है, आप धीरज , समय , मेहनत , पसीना और खून देने के लिए तैयार है तो आपका बहुत बहुत स्वागत है इस ऑनलाइन की दुनिया मे !

तो सौ बात की एक बात खुद की मर्जी से आइये वरना आपको दरवाजा ही देखना पड़ेगा ! 100 % के साथ !

02 संदर्भ साहित्य की तैयारी हैं ?

दूसरा पॉइंट यह है कि मान लीजिए कि आपने ब्लॉगिंग में आने की तैयारी कर ली । आप मानसिक रूप से बिल्कुल तैयार है । लेकिन सिर्फ विचार या इच्छा करने में सब कुछ होता ना तो भगवान को भी छुट्टी लेकर भाग जाना पड़ता । क्योंकि ब्लॉगिंग आपको लगता सिम्पल है लेकिन उसे सही मायनों में समझने के लिए आपको बड़ा वक्त लगेगा । विचार कर लिया , इच्छा भी है लेकिन उसी के बुते ओर आप ब्लॉगिंग शरू नही कर सकते । क्यों ?

Reference is the base of Blogging
Reference is the base of Blogging

तो जवाब यह है कि ये भी एक बड़े व्यापार शरू करने जैसा ही है । इसमें भी आपको इन्वेस्टमेंट , समय व दूसरे हर तरह के आइडिया लगाने पड़ेंगे ! हा , सबसे पहले तो आपको एक अच्छी सी होस्टिंग लेनी पड़ेगी । आपका डोमेन नेम लेना पड़ेगा ! साथ ही आप कितना लिखोगे ? बाद में तो उसका पिटारा खत्म होगा ही । तो आपको आप जिस केटेगरी पर या विषय पर ब्लॉग बनाएंगे उस का संदर्भ स्त्रोत – आसान भाषा मे कहे तो refrence – लेना ही पड़ेगा । अब ऑनलाइन बहुत से सोर्स उपलब्ध हैं । लेकिन उसमें भी आपको अपना समय और थोड़ा बहुत पैसा तो देना ही पड़ेगा । उसके बिना आप सटीक कंटेन बना ही नही पाओगे । और ब्लॉगिंग के क्षेत्र में कंटेंन ही किंग है !

03 पैसो का क्या ?

तो इच्छा व विश्वास होने के साथ आपको पेसो का भी बंदोबस्त करना होगा । तो आपके पास इनवेस्ट करने के लिए पैसे है तो बहुत बढ़िया वरना आप अपनी सेविंग करें । और छोटे पैमाने की सर्विस पर्चेस करके अपना ब्लॉग शरू करे । जैसे जैसे ब्लॉग सफल बनता जाएगा आप उसकी केपेसिटी और सर्विस बेटर करते जाना । तो ये है सिम्पल बट सच बात ! जो आप को कोई कहेगा ही नहीं । सब फ़्री में नहीं होता । हो जाता है लेकिन वह व्यपारिक सफलता के लिए कैपेबल नही होता ।

Money is important for starting Blogging
Money is important for starting Blogging

तो इच्छा विश्वास के साथ वास्तविक दुनिया को समझे और पेसो का भी ख्याल करके इस क्षेत्र में एंट्री ले । वरना नो एंट्री में घुसने जैसा हाल होगा । चलान कटेगा अलग से और पैसे भी बर्बाद होंगे । आपके !

सार : सौ बात की एक बात अगर सच मे आपको ब्लॉगिंग में आना ही है तो सोर्स व सर्विस देने के लिए आपको पेसो का बंदोबस्त करना ही होगा । सब करने के बाद भी सफलता मिलेगी ही इसकी गारण्टी नही । हा , सफलता मिलेगी जरूर ! लेकिन कब ? इसका एक ही जवाब है – No comments please !

Leave a Reply

error: Content is protected !!
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap
%d bloggers like this: